top of page
Search

25 प्रेग्नेंसी रोकने के घरेलू उपाय: Pregnancy Rokne Ke Gharelu Upay

Updated: May 26, 2023


pregnancy rokne ke gharelu upay

प्रेग्नेंसी एक महत्वपूर्ण और ज़िम्मेदारीपूर्ण चरण हो सकता है, और कभी-कभी हम आपातकालीन स्थिति में या गलती से प्रेग्नेंट हो जाते हैं। इस ब्लॉग में हम आपको विभिन्न प्राकृतिक और आपके घर पर ही उपलब्ध उपायों के बारे में बताएंगे, जो प्रेग्नेंसी रोकने में मदद कर सकते हैं।


यहाँ आप जानेंगे विटामिन सी, अजमोद, नीम, गर्भनिरोधक गोलियां, गर्भनिरोधक पानी, और बहुत सारे अन्य प्राकृतिक उपायों के बारे में जो प्रेग्नेंसी को रोकने में सहायक साबित हो सकते हैं। हम आपको यहां बेहतर ज्ञान और जानकारी प्रदान करेंगे ताकि आप अच्छी तरह से सूचित और समझदार रूप से निर्णय ले सकें।


इस ब्लॉग के माध्यम से हम आपको सिर्फ सावधानियों के बारे में जानकारी देंगे, लेकिन हम आपको सलाह देने की या मेडिकल उपचार की योग्यता रखने का दावा नहीं करते हैं। आपको किसी भी नई उपाय को शुरू करने से पहले एक चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए। इसके अलावा, आपके स्वास्थ्य और मेडिकल का पूर्ण जवाबदेही आप पर होगी।


पुणे में पिंक ऑर्किड आपके घरों में प्रीनेटल मालिश और बेबी मालिश की सुविधा प्रदान करता है।


Table Of Contents



25 प्रेग्नेंसी रोकने के घरेलू उपाय (Pregnancy Rokne Ke Gharelu Upay)




प्रेगनेंसी रोकना या गर्भधारण से बचना आजकल कई लोगों की आवश्यकता बन गयी है। इस लेख में हम आपको प्राकृतिक तरीकों, पारंपरिक उपायों और जड़ी-बूटी से प्रेगनेंसी रोकने के बारे में जानकारी देंगे। यहां दिए गए हैं 25 प्रेगनेंसी रोकने के घरेलू उपाय:


1. सूखे अंजीर


अंजीर गर्भ निरोधक उपायों में प्रमुख स्थान रखता है। इसका सेवन गर्भाशय के रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देता है और गर्भावस्था से बचने में मदद करता है। असुरक्षित संबंधों के बाद, सूखे अंजीर खाने से गर्भधारण को रोकने में सहायता मिल सकती है।


2. पपीता


पपीता एक अन्य प्राकृतिक उपाय है जो गर्भावस्था से बचने के लिए उपयोगी हो सकता है। इसे असुरक्षित संभोग के बाद आधे घंटे के अंतराल में दो बार सेवन करने से गर्भनिरोधक प्रभाव बढ़ सकता है। पपीता शुक्राणुओं की संख्या को कम करने में मदद करता है और प्रेगनेंसी को रोकने में सहायता प्रदान कर सकता है।


3. अदरक


अदरक गर्भावस्था को रोकने में मदद करने वाला एक प्राकृतिक उपाय है। इसके गुणों के कारण यह शुक्राणुओं की मात्रा को नियंत्रित कर सकता है और प्रेगनेंसी से बचने में मदद कर सकता है। अदरक को पीसकर पानी में उबालें और फिल्टर करके दिन में दो बार पिएं। इससे गर्भावस्था को रोकने में सहायता मिलेगी।


4. हरड़


हरड़ एक प्राकृतिक गर्भनिरोधक हो सकता है। इसकी पाउडर को नीबू के रस के साथ मिलाकर लेने से गर्भनिरोधक प्रभाव होता है। यह पुराने समय से चली आ रही एक प्रभावी तकनीक है जिसे प्रेगनेंसी को रोकने के लिए उपयोग किया जा सकता है।


5. जीरा


जीरा एक प्राकृतिक तत्व है जो गर्भावस्था को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। इसे एक गिलास गर्म पानी में मिलाकर रात में सोने से पहले पीने से गर्भनिरोधक प्रभाव होता है। जीरा शुक्राणुओं की मात्रा को नियंत्रित करके अनचाहे गर्भावस्था से बचने में मदद कर सकता है।


6. मेथी दाना


मेथी दाना गर्भनिरोधक गुणों से भरपूर होता है। इसे पीसकर पानी में मिलाकर लेने से गर्भनिरोधक प्रभाव होता है। यह गर्भावस्था से बचने में सहायता प्रदान कर सकता है।


7. सफेद जीरा


सफेद जीरा गर्भनिरोधक उपायों में उपयोगी हो सकता है। इसे दूध के साथ लेने से गर्भनिरोधक प्रभाव होता है। यह पुरानी तकनीक है जो गर्भावस्था से बचने में सहायता मिल सकती है।


8. अशोक के छाल


अशोक के छाल को गर्भनिरोधक उपाय के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे पानी में उबालकर पिएं या कषाय रूप में ले सकते हैं। इसका नियमित सेवन करने से गर्भनिरोधक प्रभाव हो सकता है।


9. भारतीय शलजम


भारतीय शलजम एक गर्भनिरोधक उपाय के रूप में उपयोगी हो सकता है। इसे संभोग के बाद एक सप्ताह तक गर्भधारण को रोकने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। आप एक चम्मच सूखे और पिसे हुए जड़ को आधा गिलास पानी में मिला सकते हैं और इसे हफ्ते में कम से कम दिन में दो बार पिएं। यदि आप पहले से ही भारतीय शलजम का सेवन कर रहे हैं, तो आप इसे आजमा सकते हैं। यह एक प्राकृतिक और सुरक्षित तरीका हो सकता है। हालांकि, बेहतर होगा कि आप इसे उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें।


10. नींबू और शहद


pregnancy rokne ke gharelu upay

नींबू और शहद को मिलाकर लेने से भी गर्भनिरोधक प्रभाव हो सकता है। एक गिलास गर्म पानी में नींबू का रस और थोड़ा सा शहद मिलाएं और इसे नियमित रूप से पिएं। यह शरीर के अंदर गर्भनिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है।


11. नागरमोथा के बीज


नागरमोथा के बीज गर्भनिरोधक गुणों से भरपूर होते हैं। आप रोजाना दो ग्राम नागरमोथा के बीज चबा सकते हैं या इन्हें पानी में भिगोकर खा सकते हैं। यह गर्भनिरोधक उपाय का एक प्राकृतिक और प्रभावी रूप है।


12. नीम की पत्तियाँ


नीम की पत्तियाँ गर्भनिरोधक गुणों से भरपूर होती हैं। आप नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर इसे दिन में दो बार पी सकते हैं। यह गर्भनिरोधक उपाय मान्यता प्राप्त है और प्राकृतिक रूप से प्रेगनेंसी से बचाने में मदद कर सकता है।


13. सोंठ


सोंठ एक प्राकृतिक गर्भनिरोधक हो सकता है। आप सोंठ को पीसकर एक चम्मच लेमन जूस के साथ मिलाएं और इसे दिन में एक बार सेवन करें। यह गर्भनिरोधक उपाय प्रभावी होता है और प्राकृतिक तरीके से गर्भ से बचने में मदद कर सकता है।


14. कलौंजी


कलौंजी में मौजूद गर्भनिरोधक गुणों के कारण इसे गर्भनिरोधक उपाय के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। आप कलौंजी को एक गिलास पानी में मिलाएं और इसे रात को सोते समय पी लें। यह गर्भनिरोधक क्षमता को बढ़ावा देता है और प्रेगनेंसी से बचने में सहायता कर सकता है।


15. कुटकी


कुटकी का इस्तेमाल गर्भनिरोधक के रूप में किया जाता है। आप कुटकी को पाउडर की शक्ति में ले सकते हैं और इसे गर्भनिरोधक तत्व के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। यह गर्भनिरोधक उपाय प्रभावी हो सकता है और प्राकृतिक तरीके से गर्भ से बचने में मदद कर सकता है।


16. सफेद प्याज़


सफेद प्याज़ में मौजूद गर्भनिरोधक गुणों के कारण इसे गर्भनिरोधक उपाय के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। आप सफेद प्याज़ को कद्दूकस करके अदरक के साथ मिलाएं और इसे दिन में दो बार खाएं। यह गर्भनिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है और प्रेगनेंसी से बचने में मदद कर सकता है।


17. जायफल


जायफल गर्भनिरोधक गुणों से भरपूर होता है और इसलिए इसका उपयोग गर्भनिरोधक उपाय के रूप में किया जा सकता है। आप जायफल को पाउडर की शक्ति में ले सकते हैं और इसे गर्भनिरोधक उपाय के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। यह गर्भनिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है और प्राकृतिक तरीके से गर्भ से बचने में मदद कर सकता है।


18. गोंद


गोंद का इस्तेमाल भी गर्भनिरोधक उपाय के रूप में किया जा सकता है। आप गोंद को तापमान में पिघलते हुए तेल में मिलाएं और इसे अपनी योनि में लगा सकते हैं। यह गर्भनिरोधक के रूप में कार्य करता है और इसे गर्भ से बचने में मदद कर सकता है।


19. आम के पत्ते


आम के पत्तों को ताजगी से बाहर निकालकर इन्हें सुखा लें और पीसकर इसे दूध के साथ मिलाएं। इस मिश्रण को दिन में दो बार पिएं। आम के पत्ते गर्भनिरोधक गुणों से भरपूर होते हैं और यह एक प्राकृतिक तरीका है गर्भनिरोधक के रूप में कार्य करने का।


20. शतावरी


शतावरी गर्भनिरोधक गुणों से भरपूर होती है और इसे गर्भनिरोधक उपाय के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। आप शतावरी को पाउडर की शक्ति में ले सकते हैं और इसे गर्भनिरोधक उपाय के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। यह गर्भनिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है और प्रेगनेंसी से बचने में मदद कर सकता है।


21. अशोक के छाल


अशोक की छाल में गर्भनिरोधक गुण होते हैं और इसलिए इसे गर्भनिरोधक उपाय के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। आप अशोक की छाल को पाउडर की शक्ति में ले सकते हैं और इसे गर्भनिरोधक उपाय के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। यह गर्भनिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है और प्राकृतिक तरीके से गर्भ से बचने में मदद कर सकता है।


22. अजमोद


संभोग के बाद प्राकृतिक रूप से गर्भधारण को रोकने के लिए अजमोद एक प्रभावी उपाय है। इसे हल्के जड़ी बूटी के रूप में सेवन किया जा सकता है, जिससे इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं होता। अजमोद में पाये जाने वाले प्रकाशनी औषधीय तत्व गर्भनिरोधक गुणों के कारण काम करते हैं और गर्भधारण को रोकते हैं। आमतौर पर, अजमोद का सेवन बिना किसी दुष्प्रभाव के सुरक्षित और प्राकृतिक तरीके से गर्भनिरोधक प्रभाव प्रदान कर सकता है।


23. विटामिन सी की गोलियां


प्रेगनेंसी से बचने के लिए विटामिन सी एक और प्रभावी उपाय है। विटामिन सी बाधा प्रोजेस्टेरोन हार्मोन के साथ हस्तक्षेप करता है और इस प्रकार गर्भाधान को रोकता है। असुरक्षित यौन संबंध के बाद 2-3 दिनों तक, दिन में 2 बार लगभग 1500 मिलीग्राम विटामिन सी की गोलियां लेने से गर्भनिरोधक प्रभाव प्राप्त हो सकता है। यह उचित खुराक की जांच और डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही लेना चाहिए।


24. कंडोम


प्रेग्नेंसी रोकने के लिए कंडोम एक लोकप्रिय गर्भनिरोधक विधि है। संभोग के दौरान कंडोम का उपयोग सुरक्षित जन्म नियंत्रण में मदद करता है। हालांकि, यह ध्यान देने योग्य है कि कंडोम का उपयोग कभी-कभी विफल हो सकता है। संक्रमण से बचने के लिए कंडोम का उपयोग करते समय उचित स्वच्छता क


25. ब्लैक एंड ब्लू कोहोश


ब्लैक एंड ब्लू कोहोश जड़ी-बूटियां ऑक्सीटोसिन हार्मोन की रिहाई को उत्तेजित करती हैं, जिससे गर्भाशय की दीवारों का संकुचन होता है और गर्भावस्था को रोकती है। यहां खास ख्याल रखना चाहिए कि ब्लैक एंड ब्लू कोहोश की सही खुराक निर्धारित करने के लिए डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। अनुशासित रूप से इस्तेमाल करने पर यह गर्भनिरोधक और गर्भावस्था को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है।



सावधानियाँ और प्रतिक्रियाएँ ध्यान में रखें


pregnancy rokne ke gharelu upay

प्रेग्नेंसी रोकने के घरेलू उपाय का इस्तेमाल करते समय कुछ सावधानियों का ध्यान रखना आवश्यक है। पहले तो, यह महत्वपूर्ण है कि आप इन उपायों का इस्तेमाल करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें। वे आपके मेडिकल हिस्ट्री और स्वास्थ्य पर आधारित आपको सही मार्गदर्शन करेंगे। इसके अलावा, इन घरेलू उपायों को सही मात्रा में और सही तरीके से लेना आवश्यक है। उचित मात्रा और उपयोग की जानकारी के लिए, आप विशेषज्ञ या प्रशिक्षित वैद्य से सलाह लें। इससे आपको यह सुनिश्चित होगा कि आप उपायों का सही फायदा उठा रहे हैं और किसी भी संभव दुष्प्रभाव से बच सकें।


इसके साथ ही, कृपया ध्यान दें कि हर घरेलू उपाय उपयोग करने पर उसके कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं। इनमें से कुछ सामान्य साइड इफेक्ट्स शामिल हो सकते हैं जैसे कि पेट दर्द, ऊंटनी, थकान, चक्कर या शीघ्रता आदि। यदि आप किसी अपने द्वारा इस्तेमाल किए गए उपाय के किसी अनुपायुक्त प्रतिक्रिया का सामना कर रहे हैं, तो तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करें और उपचार के लिए उनसे सलाह लें। एक व्यापक ज्ञान और सावधानीपूर्वक अनुसरण से, आप इन घरेलू उपायों का इस्तेमाल करते समय सुरक्षित रह सकते हैं और गर्भनिरोधक प्रभाव प्राप्त कर सकते हैं।


FAQs


1. गलती से प्रेग्नेंट हो जाए तो क्या करें घरेलू उपाय हिंदी?


यदि किसी को गलती से प्रेग्नेंट हो जाए तो उन्हें सबसे पहले अपने चिकित्सक से मिलना चाहिए और उन्हें समस्या का सामना करने के लिए सलाह लेनी चाहिए। साथ ही, कुछ घरेलू उपाय जैसे अजवाइन का उपयोग, पपीते के बीज का सेवन और पपीता का रस पीना भी मददगार हो सकता है। हालांकि, इन उपायों का इस्तेमाल करने से पहले चिकित्सक से परामर्श लेना जरूरी है।


2. 1 महीने की प्रेगनेंसी को कैसे खत्म किया जा सकता है?


1 महीने की प्रेगनेंसी को खत्म करने के लिए एक व्यक्ति को चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए। वे अपने चिकित्सक से बात करके औषधीय गोलियों या और इलाज के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। हालांकि, इस प्रक्रिया को करने से पहले डॉक्टर के परामर्श और मेडिकल सुपरविजन का पालन करना आवश्यक होता है।


3. 72 घंटे के अंदर अनचाहे गर्भ को कैसे रोकें?


72 घंटे के अंदर अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए एक व्यक्ति को जल्दी से एक चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए। डॉक्टर से मानव गर्भनिरोधक दवाओं या इंजेक्शन के बारे में सलाह ली जा सकती है। इस प्रक्रिया को करने के लिए समय बहुत महत्वपूर्ण होता है, इसलिए शीघ्रता से चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।



निष्कर्ष


pregnancy rokne ke gharelu upay

इस ब्लॉग में हमने आपके साथ 25 प्रेग्नेंसी रोकने के घरेलू उपाय साझा किए हैं। हमने विभिन्न प्राकृतिक और सुरक्षित उपायों के बारे में चर्चा की है जो आपकी प्रेग्नेंसी को रोकने में मददगार साबित हो सकते हैं। हालांकि, हम यह सुनिश्चित करना चाहेंगे कि आप इन उपायों का इस्तेमाल करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।


यहां बताए गए उपाय केवल सावधानियों के बारे में हैं और यह किसी भी मेडिकल निदान की जगह नहीं ले सकते हैं। आपकी स्वास्थ्य से जुड़ी किसी भी समस्या के मामले में, आपको अपने चिकित्सक द्वारा सलाह लेनी चाहिए। हमें आशा है कि यह ब्लॉग आपको जागरूक बनाने में मदद करेगा और आपको विकल्पों की समझ और योग्यता के बारे में समर्थन प्रदान करेगा।


प्रेग्नेंसी को रोकने में उपयुक्त उपाय चुनने के लिए सभी संभावित पहलुओं को ध्यान में रखें और अपने व्यक्तिगत परिस्थितियों को महत्वपूर्ण मानें। स्वस्थ और सुरक्षित रहने के लिए अपने चिकित्सक के साथ बातचीत करें और उनकी सलाह लें। सावधानी बरतें, जागरूक रहें और स्वस्थ जीवनशैली को प्राथमिकता दें।




38 views
bottom of page